बद्रीनाथ के पा’स 10 अ’द्भु’त जग’हें: अगर ब’ना र’हे है या’त्रा का प्ला’न तो जा’निए इन स्था’नों के बारे में।

बद्रीनाथ भारत के उत्तरी भाग में स्थित एक स्थान है जो हिन्दुओं एवं जैनो का प्रसिद्ध तीर्थ है। यह उत्तराखण्ड के चमोली जिले में स्थित एक नगर पंचायत है। यहाँ बद्रीनाथ मन्दिर है जो हिन्दुओं के चार प्रसिद्ध धामों में से एक है।

 

यह धाम जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ को भी समर्पित है। वैसे इसका नाम शास्त्रों – पुराणों में बदरीनाथ है। बदरीनाथ जाने के लिए तीन ओर से रास्ता है। हल्द्वानी रानीखेत से, कोटद्वार होकर पौड़ी (गढ़वाल) से ओर हरिद्वार होकर देवप्रयाग से। ये तीनों रास्ते रुद्रप्रयाग में मिल जाते है। रुद्रप्रयाग में मन्दाकिनी और अलकनन्दा का संगम है। जहां दो नदियां मिलती है, उस जगह को प्रयाग कहते है। बदरी-केदार की राह में कई प्रयाग आते है। रुद्रप्रयाग से जो लोग केदारनाथ जाना चाहतें है, वे उधर चले जाते है।

बद्रीनाथ के पास 10 अद्भुत जगहें

“पांडुकेश्वर”


माना जाता है कि यह स्थान पांडवों के पिता राजा पांडु द्वारा स्थापित किया गया था। यह गोविंदघाट से 4 किलोमीटर, केदारनाथ से 219 किलोमीटर और बद्रीनाथ से 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ दो मंदिर हैं – एक भगवान योग बदरी नारायण के लिए और दूसरा भगवान वासुदेव के लिए। सर्दियों के दौरान, भगवान वासुदेव मंदिर, भगवान बदरी नारायण के निवास स्थान के रूप में कार्य करता हैं और पूजा से जुड़े सभी दैनिक अनुष्ठान यहां किए जाते हैं। दोनों मंदिर सदियों पुराने हैं। अगर आप भी बद्रीनाथ यात्रा की योजना बना रहे है। तो ये स्थान आप के लिए पर्याप्त है।

“भीमपुल”


यह माणा गाँव के पास बद्रीनाथ से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सरस्वती नदी पर बना एक प्राकृतिक पत्थर का पुल है। भीम पुल से वसुधारा जलप्रपात और सतोपंथ झील के लिए रास्ता जाता है। यह अचंभित करने वाला पुल पत्थर की बड़ी शिला से नदी के दोनों किनारों को जोड़कर बनाया गया है। इसके नीचे से सरस्वती नदी बहती है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक इतने बड़े और भारी पत्थरों से पुल बनाने का यह कारनामा पांडू पुत्र महाबली भीम द्वारा किया गया था।

“वसुधारा फॉल्स”


देवभूमी उत्तराखंड में कई रहस्मय और पवित्र स्थान हैं, जहां लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। धर्मिक तीर्थ स्थल के अलावा देवभूमी उत्तराखंड कई बेहद खूबसूरत झरनों के लिए जाना जाता है। यहां मौजूद झरने पहाड़ी इलाकों के नीचे झरते हुए हर पर्यटक के ऊपर अपनी एक अलग ही छाप छोड़तें है और प्रकति की अनदेखी खूबसूरती की झलक दिखाते हैं। इनमें से एक झरना ऐसा भी है जिससे पापी व्यक्ति दूर रहते हैं। यह स्थान बद्रीनाथ से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित वसुधारा झरना है। जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। यह पवित्र झरना अपने अंदर कई रहस्य समेटे हुए है। वसुधारा झरना करीब 400 फीट ऊंचाई से गिरता है। इसकी जलधारा गिरते समय मोतियों के समान नजर आती है। इस झरने की सुंदरता देखते ही बनती है। यहां आकर पर्यटकों को स्वर्ग में होने की अनुभूति होती है। यहां पहुंचकर पर्यटक अपनी थकान भूल जाते हैं।

“मन विलेज”

बद्रीनाथ से तीन किमी की दूरी पर स्थित है। जोकि उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में स्थित है और बद्रीनाथ से 3 किमी ऊंचाई पर बसा हुआ है। माणा समुद्र तल से लगभग 10,000 फुट की ऊंचाई पर बसा हुआ है। यह गांव भारत और तिब्बत की सीमासे लगा हुआ है। माणा गांव अपनी सांस्कृतिक विरासत के साथ-साथ कई अन्य कारणों की वजह से भी मशहूर है।माणा गाँव से लगे कई ऐतिहासिक दर्शनीय स्थल हैं। गाँव से कुछ ऊपर चढ़ाई पर चढ़ें तो पहले नज़र आती है गणेश गुफा और उसके बाद व्यास गुफा।

“नीलकंठ पीक”


जिसे ‘गढ़वाल की रानी’ भी कहा जाता है, नीलकंठ चोटी, 6,597 मीटर की ऊँचाई के साथ, बद्रीनाथ मंदिर के लिए एक अविश्वसनीय पृष्ठभूमि है। इस बर्फीली पर्वत चोटी का नाम भगवान शिव के नाम पर रखा गया है और इसकी सुंदरता तब और बढ़ जाती है जब सूरज की पहली किरणें दिन के ब्रेक पर सबसे ऊपर आती हैं।
बर्फ से ढकी पर्वत चोटी, वास्तव में, गढ़वाल हिमालय में सबसे चौंका देने वाला शिखर है। नीलकंठ के उत्तर-पश्चिम की ओर, आप सतोपंथ पा सकते हैं। आप पानीपतिया ग्लेशियर को दक्षिण-पश्चिम की तरफ देख सकते हैं। इसके अलावा एक छोटी सी नदी- खैरो गंगा, जो पर्वत शिखर के दक्षिण की ओर चलती है, को देखें। बद्रीनाथ में घूमने के लिए यह सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है।

“तप्तकुंड”


माना जाता है कि तप्त कुंड भगवान अग्नि का घर है। अलकनंदा नदी तट के ठीक ऊपर, 45 डिग्री सेल्सियस पर एक चारित्रिक रूप से गर्म पानी का झरना, जहाँ बद्रीनाथ तीर्थ पर जाने से पहले भक्त स्नान करते हैं। तप्त कुंड के पानी में पुनर्योजी गुण पाए जाते हैं।बद्रीनाथ की पूजा के पवित्र स्थान पर जाने से पहले कुंड के स्वर्गीय और गर्म पानी में डुबकी लगाना मूलभूत है। ताप कुंड के करीब, आपको पांच शिलाखंड मिल सकते हैं, जो हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, नारद, नरसिंह, वराह, गरूर और मार्कंडेय हैं।

“अलका पूरी”


अलका पुरी ग्लेशियर पानी का स्रोत है जो अलकनंदा नदी को जन्म देता है। अद्भुत पर्वत चोटियों के साथ यह शानदार बर्फ की चादर, जो आंखों को लुभाती है। इसी तरह अलका पुरी का भी भारत में असाधारण महत्व है, क्योंकि इसे कुबेर, गंधर्वों और यक्षों का पवित्र घर माना जाता है।

“माता मूर्ति टेम्पल”


यह मंदिर जुड़वा बच्चों की मां, भगवान बद्रीनाथ और नारा को समर्पित है। माता मूर्ति मंदिर हिंदुओं के लिए एक धार्मिक तीर्थ स्थान है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु के प्रति अत्यधिक श्रद्धा से भरी माता मूर्ति ने उनसे प्रार्थना की कि वे उनके अगले सांसारिक स्वरूप के रूप में उनके गर्भ से जन्म को स्वीकार करें। भगवान विष्णु ने अपनी प्रतिबद्धता से संतुष्ट होकर जुड़वा बच्चों के रूप में जन्म लिया।
यहां देवी से अपील की जाती है कि उन्हें भौतिकवादी दुनिया के कष्टों से मुक्त किया जाए। प्रत्येक वर्ष सितंबर में श्रावण द्वादशी के आगमन पर एक उत्सव आयोजित किया जाता है।

“व्यास गुफ़ा”


बद्रीनाथ में यात्रा करने के लिए शीर्ष स्थानों में गिना गया, व्यास गुफ़ा एक प्राचीन गुफा है। ऐसा माना जाता है कि ऋषि व्यास ने भगवान गणेश की मदद से यहां महाभारत की रचना की थी। इस स्थान पर आसानी से पहुंचा जा सकता है। जो बद्रीनाथ से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप बद्रीनाथ की यात्रा के दौरान इस स्थान को अपने यात्रा कार्यक्रम में शामिल करें

 

+