गढ़वाल के “नीति घाटी” में हुई इस सीजन की पहली बर्फबारी लोगों के चेहरों पर दिखी खुशी……………..

यह बात आप सभी लोगों को पता होगी कि भारत तिब्बत की सीमा पर स्थित है नीति घाटी जहां पर मौसम काफी ठंडा रहता है इस वर्ष की पहली बर्फबारी होने से वहां का वातावरण खुशनुमा हो चुका है और वहां के लोगों के चेहरे पर अलग ही प्रकार की ख़ुशी झलक रही है।

सभी लोग बर्फ़बारी का भरपूर आनंद उठा रहे हैं बच्चे खेलते हुए नजर आ रहे हैं। नीति घाटी के घनसाली मेला पूजा में बहुत ग्रामीणों ने जमकर बर्फबारी का आनंद उठाया और हम आप सभी लोगों को जानकारी के लिए बता देते हैं कि अक्टूबर महीने के अंत में नीति घाटी के तकरीबन एक दर्जन से भी अधिक गांवों में ठंडक के दस्तक के साथ ही लोगों को शीतकालीन प्रवास वाले चले जाते हैं। आप सभी लोगों को पता होगी उत्तराखंड में कितनी ज्यादा बर्फबारी देखी जाती है और यह गांव की खासियत है और आप कह सकते हैं कि पुरानी परंपरा भी है कि शीतकालीन के समय में यहां अपना गांव छोड़कर शीतकालीन प्रवास के लिए चले जाते हैं और जब फिर से गर्मी का मौसम आता है तो यह गांव फिर से अपने मूल निवास में वापस आ जाता है लेकिन अपने गांव से जाने से पहले सभी गांव वाले लप्सा देवता की पूजा के साथ और भी देवी देवताओं की पूजा करते हैं। उसके बाद ही अपने गांव को छोड़ते हैं इस वर्ष भी यह पूजा बड़े पौराणिक तौर तरीके के साथ आरंभ हुई जिसमें पूरे गांव वालों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

+