उत्तराखंड में एक बार फिर से महंगा होने वाला है सफर , ऑटो और विक्रम का किराया बढ़ने की जा रही है तैयारी…………

कोरोनावायरस महामारी के बाद लोग अब इस वक्त महंगाई से बहुत ज्यादा परेशान है क्योंकि लगभग हर चीज के दाम बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं और इसमें सबसे ज्यादा तेजी देखी गई है पेट्रोल व डीजल के दाम है जिसके कारण रोजमर्रा के कार्य में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है और अब कुछ ही दिनों बाद से और किराया भी बढ़ने की तैयारी की जा रही है क्योंकि ऑटो रिक्शा ड्राइवर को भी तेल की बढ़ती कीमतों के कारण काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है जिसके कारण में इस प्रकार के कदम उठाने पड़ रहे हैं।

इस बीच डीजल-पेट्रोल और मोटर पार्ट्स के दाम में बेहताशा वृद्धि हुई है। डीजल 95 रुपये पार पहुंच गया है। किराये में बढ़ोतरी हुए एक साल से ज्यादा वक्त हो चुका है। ऐसे में विक्रम और ऑटो चालक किराया बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि अभी जो किराया तय है, वो बहुत कम है। डीजल, बीमा और मरम्मत के खर्चे निकाल पाना मुश्किल हो रखा है। दिनभर में 600 रुपये का काम हो पाता है। इसमें तीन सौ रुपये का डीजल और पेट्रोल लग जाता है। बाकी खर्चे हटाकर सौ से डेढ़ सौ रुपये की शुद्ध कमाई भी नहीं हो पाती। बता दें कि ऑटो-विक्रम का किराया राज्य परिवहन प्राधिकरण तय करता है। अभी ऑटो का पहले दो किलोमीटर का किराया 50 रुपये तय है। इसके बाद प्रति किलोमीटर 15 रुपये है। तेल की बढ़ती कीमतों के बीच लोग ऑटो-विक्रम संचालकों की मनमानी से भी परेशान हैं। बढ़ती महंगाई के चलते कई ऑटो और विक्रम संचालक किराये में मनमानी कर रहे हैं। सरकार की ओर से तय किराये से ज्यादा किराया वसूल रहे हैं।

+