उत्तराखंड के मशहूर क्रिकेटर “ऋषभ पंत” के कोच का हुआ निधन, कहीं भावुक बात…………..

उत्तराखंड के मशहूर क्रिकेटर ऋषभ पंत को तो आप सभी लोग जानते होंगे उन्होंने उत्तराखंड का नाम पूरे देश में इतना ज्यादा रोशन किया है कि वाह उत्तराखंड के सबसे होनार क्रिकेटरों में से एक हैं और इस वक्त वह भारत की टीम को T20 वर्ल्ड कप में भी रिप्रेजेंट कर रहे हैं विकेटकीपर और बल्लेबाज के रूप में लेकिन उनके लिए एक बहुत ही दुखद खबर सामने आ रही है उत्तराखंड से जहां पर उनके कोच अब इस दुनिया में नहीं रहे और उन्होंने जिसके लिए एक भावुक पोस्ट भी लिखा जिसके बारे में आज हम आप सभी लोगों को बताने वाले हैं।

ऋषभ पंत हाल ही में T20 वर्ल्ड कप में भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं यह बात आप सभी लोगों को पता होगी कि भारतीय टीम को विश्वकप में शुरुआती दो मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा था जिसके कारण उनका विश्वकप में पहुंचने का सपना थोड़ा सा धूमिल नजर आ रहा है लेकिन उसके बाद के सभी मुकाबलों में पूरी टीम में अच्छा प्रदर्शन किया जिसमें ऋषभ पंत की भी खासी योगदान था।

आपको बता दें ऋषभ पंत ने एक बार एक इंटरव्यू में बताया था कि तारक सर पितातुल्य नहीं है वो मेरे पिता ही हैं। सिन्हा ने पंत की प्रतिभा को पहचाना था और दिल्ली के एक स्कूल में उनकी पढ़ाई का इंतजाम किया। वो अपने शिष्यों के बीच ‘उस्ताद जी’ नाम से प्रसिद्ध थे। कोच तारक सिन्हा द्रोणचार्य अवार्ड से भी नवाजे गए हैं। वह देश प्रेम आजाद, गुरचरन सिंह, रमाकांत आचरेकर और सुनीता शर्मा के बाद द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त करने वाले पांचवें भारतीय क्रिकेट कोच थे। द्रोणाचार्य अवार्डी कोच सिन्हा ने पूर्व भारतीय ओपनर आकाश चोपड़ा, अंजुम चोपड़ा, ऋषभ पंत समेत देश को दर्जन भर टेस्ट क्रिकेटर और सैकड़ों प्रथम श्रेणी क्रिकेटर दिए है।

+